डिप्टी शेरिफ संदीप धालीवाल के अंतिम संस्कार में हजारों आये, 21 बंदूकों की सलामी

20
डिप्टी शेरिफ धालीवाल को श्रद्धांजलि देने के लिये उमड़ी भीड़.

अमेरिका के टेक्सास प्रांत की हैरिस काउंटी के पहले सिख डिप्टी शेरिफ संदीप सिंह धालीवाल (Deputy Sheriff Sandeep Singh Dhalwal) की अंतिम यात्रा में हज़ारों लोग शामिल हुए. बुधवार को 21 बंदूकों से सलामी देकर उन्हें पुलिस सम्मान के साथ आखिरी विदाई सलामी दी गई. डिप्टी शेरिफ धालीवाल को श्रद्धांजलि देने के लिये उमड़ी भीड़ में अमेरिकन और भारतीय मूल के बहुत लोग थे.

डिप्टी शेरिफ संदीप सिंह धालीवाल की पत्नी और बेटा.

अंतिम संस्कार में टेक्सास प्रांत के गवर्नर डैन पैट्रिक, सीनेटर टेड क्रुज, ह्यूस्टन के मेयर सिलवेस्टर टर्नर और हैरिस काउंटी के शेरिफ एड गोंज़ालेज़ समेत कई गण्यमान्य लोगों ने डिप्टी शेरिफ धालीवाल के काम और बहादुरी की तारीफ़ की. वहीं ह्यूस्टन सिटी काउंसिल ने एलान किया है कि प्रत्येक 2 अक्टूबर का दिन धालीवाल को समर्पित किया जाता है. ह्यूस्टन शहर की परिषद (Houston City Council) संदीप सिंह धालीवाल की कुर्बानी को हरेक साल 2 अक्टूबर को याद किया करेगी. ये वही दिन था जब संदीप सिंह धालीवाल की ह्यूस्टन के हैरिस काउंटी में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

हैरिस काउंटी के पहले सिख डिप्टी शेरिफ संदीप सिंह धालीवाल की अंतिम यात्रा में हज़ारों लोग शामिल हुए.

दस साल से यहाँ शेरिफ कार्यालय के अधीन सेवा कर रहे 42 वर्षीय संदीप सिंह उस दिन भी ड्यूटी पर तैनात थे जब कार रोके जाने पर उसके चालक ने उन्हें गोली मारी थी. संदीप सिंह के परिवार में पत्नी और तीन बच्चे हैं. बच्चों से मुखातिब होते हुए सीनेटर टेड क्रुज ने कहा कि अमेरिका उनके पिता की शहादत के प्रति हमेशा एहसानमन्द रहेगा.

हैरिस काउंटी के पहले सिख डिप्टी शेरिफ संदीप सिंह धालीवाल को पुलिस सम्मान के साथ आखिरी विदाई सलामी दी गई.

संदीप सिंह धालीवाल भारत के पंजाब प्रान्त के कपूरथला के गाँव धालीवाल बेत के मूल निवासी थे और 90 के दशक में अमेरिका जाकर बस गये थे. वो पहले पुलिस अधिकारी थे जिन्हें सिख वेश के साथ स्थानीय पुलिस की वर्दी धारण करने की इजाज़त मिली थी. यानि पगड़ी और दाढ़ी के साथ वहां पुलिस की वर्दी पहनने वाले संदीप पहले सिख थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here