शाबाश…! मेट्रो स्टेशन पर यात्री की जान बचा कर देवदूत बना सीआईएसएफ जवान

48
सीआईएसएफ जवान ने मेट्रो स्टेशन पर सीपीआर देकर यात्री की जान बचाई

दिल्ली में मेट्रो स्टेशन पर तैनात केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल ( central industrial security force ) के एक जवान की सतर्कता , संवेदनशीलता और समझदारी ने एक शख्स की जान बचा ली. उत्तम कुआर नाम के इस जवान की सभी तारीफ कर रहे हैं और उस वीडियो को भी शेयर कर रहे हैं जिसमें उत्तम कुमार उस यात्री  की जान बचाने की जद्दोजहद कर रहा है.

यह घटना बीते शनिवार ( 4 नवंबर 2023 ) की है जब नांगलोई मेट्रो स्टेशन पर पहुंचे अनिल कुमार ( 54 वर्ष ) तलाशी के बाद स्कैनर से अपना बैग उठाकर ट्रेन पकड़ने के लिए एंट्री प्वाइंट की तरफ जा रहे थे. वह अचानक पलटे और फिर बेसुध होकर गिर गए. थोड़े से ही फासले पर खड़ा सीआईएसएफ  का जवान उत्तम यह देख रहा था. उत्तम तुरंत मदद के लिए आया. उसने अनिल  कुमार की हाव भाव और हलात देखते ही भांप लिया कि उनको  दिल का दौरा पड़ने से बेहोशी हुई है .

मेटल डिटेक्टर  वाले सर्चिंग – फ्रिस्किंग पॉइंट के करीब ज़मीन पर गिरे अनिल  कुमार को  उत्तम कुमार  ने वहीँ लिटा कर फ़ौरन सीपीआर ( cardiopulmonary resuscitation – CPR) देने की प्रक्रिया के तहत बार बार सीने को दोनों हाथ से दबाना और छोड़ना शुरू किया. सीआईएसएफ जवान उत्तम कुमार  की यह कोशिश फलीभूत और अनिल  कुमार होश में आ गए. उनके दिल ने फिर से धड़कना शुरू कर दिया जोकि रुक गया था. इसके साथ ही अनिल  कुमार को नज़दीक के अस्पताल में पहुंचाया गया . साथ ही अनिल  कुमार के परिवार को भी सूचित करके उन्हें बुला लिया गया . सर्वोत्तम काम करके उत्तम कुमार ने जैसा नाम वैसा काम वाली कहावत को भी चरितार्थ कर दिया .

हालांकि यह कोई पहला ऐसा मामला नहीं है जब सीआईएसएफ के किसी जवान ने यूं सीपीआर देकर किसी ऐसे व्यक्ति की जान बचाई हो जो दिल का दौरा पड़ने से गिर गया हो.  सीआईएसएफ , सीआरपीएफ या पुलिस आदि विभिन्न ऐसे संगठनों के कार्मिकों ने इस तरह से लोगों की जान बचाई है . इन बलों के जवानों को दी जाने वाली ट्रेनिंग में सीपीआर आदि प्राथमिक चिकित्सा देने के तरीके भी सिखाए जाते हैं. सही समय पर और सही तरीके से सीपीआर देने से कई जानें बचाई जा सकती हैं .