एसएसबी के सीमा प्रहरियों ने असम में मनाया अपना 60वां स्थापना दिवस

17
एसएसबी की महिला प्रहरियों ने कला और संस्कृति को कायम रखने का सबक भी दिया
भारत-नेपाल तथा भारत-भूटान सीमा के प्रहरी, सशस्त्र सीमा बल ने अपनी हीरक जयंती के मौके  असम में एक शानदार परेड का आयोजन किया .  इस दौरान एसएसबी बल ने अपना  ध्येय वाक्य “सेवा , सुरक्षा, बन्धुत्व ” दोहराया. हरेक  बल के स्थापना दिवस  को नई दिल्ली के अलावा किसी  स्थान पर आयोजित करने  की  गृह मंत्रालय की पहल के तहत सशस्त्र सीमा बल (sashastra seema bal) ने अपनी  60वीं  स्थापना दिवस  परेड का आयोजन सलोनीबाड़ी स्थित  प्रशिक्षु प्रशिक्षण केंद्र में किया .
इस मौके पर  मुख्य अतिथि के तौर पर केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने परेड की सलामी ली. इस अवसर पर असम  के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा , गृह सचिव अजय कुमार भल्ला, गृह विभाग व स्थानीय शासन के कई बड़े अफसर और उनके परिवार जन भी उपस्थित थे.
एसएसबी की हीरक जयंती पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने डाक टिकट जारी किया
परेड के दौरान, सशस्त्र सीमा बल  ( ssb )  की 6 सीमांत मुख्यालयों को दर्शाती  6 टुकडियों  के साथ साथ महिला  दस्ता, विशेष प्रचलन  दस्ता और  श्वान दस्ते ( dog squad ) ने सलामी मंच  के सामने से मार्च पास्ट किया.सभी टुकड़ियों ने सीमाओं के प्रहरियों की वीरता, शौर्य  और राष्ट्र के प्रति प्रतिबद्धता का प्रदर्शन  किया.
एसएसबी की स्थापना का हीरक जयंती समारोह
कार्यक्रम स्थल पर पहुँचने के बाद श्री शाह ने शहीद स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित की. कार्यवाहक महानिदेशक अनीश दयाल सिंह ने एसएसबी की अब तक की यात्रा का वर्णन दिया. वर्तमान में इसकी 73 बटालियन हैं और 91 हज़ार से ज्यादा जवान हैं . सुरक्षा के साथ साथ एसएसबी के कार्मिकों ने   आपदा के समय में जहां नागरिकों व देश की सहायता की वहीं खेलों की दुनिया में भी देश विदेश में नाम कमाया.
केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सरकार की विभिन्न योजनाओं को अमली जाम पहनाने में एसएसबी के काम की तारीफ़ की. उपलब्धियां हासिल करने वाले कार्मिकों को उन्होंने पुरस्कार , मेडल , ट्रॉफी आदि सम्मान भी प्रदान किए . इस अवसर पर उन्होंने एक डाक टिकट भी जारी किया.