छत्तीसगढ़ के सुकमा में खतरनाक इनामी नक्सली वेत्ती राम का आत्मसमर्पण

600
सुकमा
सुकमा पुलिस के समक्ष सरेंडर करने के बाद नक्सली वेत्ती राम (बीच में) 8 लाख के चेक के साथ. फोटो साभार : एएनआई

छत्तीसगढ़ के सुकमा में सक्रिय ख़तरनाक इनामी नक्सली वेत्ती राम ने सुकमा ज़िला पुलिस मुख्यालय में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के सामने आज समर्पण करते हुए हथियार डाल दिए. कई बरसों से सक्रिय वेत्ती राम को इसी साल 13 मार्च को सुकमा के किस्तराम में हुए उस हमले के लिए भी जिम्मेदार माना गया है जिसमें बारूदी सुरंग से सीआरपीएफ के वाहन को उड़ा दिया गया था जिसमें केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल (CRPF ) के 9 जवानों की जान चली गई थी. वेत्ती राम की गिरफ्तारी पर आठ लाख रूपये का इनाम था.

पुलिस के मुताबिक़ वेत्ती राम ने बृहस्पतिवार की सुबह सुकमा पुलिस मुख्यालय में, नक्सलरोधी अभियान के प्रभारी आईपीएस अधिकारी उपमहानिरीक्षक पी सुन्दरराज के सामने आकर सरेंडर किया. साथ ही वेत्ती राम ने अपनी इन्सास राइफल भी जमा कराई. पी सुन्दरराज के मुताबिक़ वेत्ती राम ने अपने अपराध कबूल किये है और कहा है कि सुकमा में सुरक्षा बलों के बढ़ते दबाव और राज्य सरकार की सरेंडर नीति की वजह से समर्पण कर रहा है.

नक्सली वेत्ती राम ने बताया है कि वो 1995 में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) में शामिल हुआ था और इसके बाद कई बड़ी नक्सली वारदात में भी शामिल रहा है. उल्लेखनीय है कि 13 मार्च 2018 को सुकमा के किस्तराम में सीआरपीएफ के जिस वाहन को बारूदी सुरंग से उड़ाकर 9 जवानों की हत्या की गई थी वो एक बारूदी सुरंग रोधक वाहन (mine protected vehicle – MPV) में सवार थे.

सुकमा
नक्सली वेत्ती राम ने सुकमा पुलिस के समक्ष इन हथियारों के साथ सरेंडर किया. फोटो साभार : एएनआई