भारत का एक शानदार सिपाही दिनेश्वर शर्मा चला गया, राजकीय सम्मान से अंत्येष्टि

267
दिनेश्वर शर्मा
आईपीएस अधिकारी दिनेश्वर शर्मा

भारतीय पुलिस सेवा के वरिष्ठतम ओहदे से रिटायर होने के बाद भी लगातार अहम जिम्मेदारियां निभाते रहे आईपीएस अधिकारी दिनेश्वर शर्मा ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया. वर्तमान में वह लक्षद्वीप के प्रशासक थे. दिनेश्वर शर्मा ने शुक्रवार को दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में अंतिम सांस ली जहां कुछ दिन से उनका इलाज चल रहा था. मूल रूप से बिहार के गया ज़िले के रहने वाले दिनेश्वर शर्मा का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ आज उनके पैतृक गाँव खनेटा पाली के पास विष्णुपद श्मशान गृह में किया जाएगा.

66 वर्षीय दिनेश्वर शर्मा भारतीय पुलिस सेवा के 1979 बैच के केरल कैडर के अधिकारी थे. अंग्रेजी , हिंदी और मैथिली ही नहीं दिनेश्वर शर्मा उर्दू , मलयालम और अरबी भाषा भी जानते थे. अपने परिवार में वह तीसरी पीढ़ी के पुलिस सेवक थे. यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा पास करने के बाद उन्हें भारतीय वन सेवा मिल रही थी लेकिन अगली बार फिर परीक्षा में बैठे और बेहतर रैंक पाकर आईपीएस अधिकारी बने. केरल के अल्प्पुजा ज़िले में एएसपी के तौर पर उन्हें सब डिवीज़न अधिकारी के तौर पर पहली पोस्टिंग मिली. केरल में विभिन्न जिलों और स्थानीय ख़ुफ़िया इकाई समेत अन्य पुलिस यूनिटों में तैनाती के बाद उन्होंने केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) में भी अपनी सेवाएं दीं.

दिनेश्वर शर्मा
आईपीएस अधिकारी दिनेश्वर शर्मा (बीच में)

सन 2003 से 2005 तक दिनेश्वर शर्मा इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) में संयुक्त निदेशक के तौर पर कश्मीर डेस्क के प्रभारी रहे. कश्मीर के मामलो को लेकर उनकी अच्छी पकड़ थी. वह सीआरपीएफ में जम्मू कश्मीर के प्रभारी महानिरीक्षक रहे. इस ओहदे से स्थानांतरण के बाद वह इंटेलिजेंस ब्यूरो में एडीशनल डायरेक्टर और फिर स्पेशल डायरेक्टर बनाये गये. भारत के वर्तमान राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए – NSA) अजित डोभाल के साथ उन्होंने तब काम किया जब डोभाल आईबी के प्रमुख थे.

देश में विभिन्न राज्यों में विभिन्न पुलिस संगठनों के साथ काम कर चुके आईपीएस दिनेश्वर शर्मा ने विदेशों में भी ट्रेनिंग ली और पोस्टिंग्स भी हुई. वह इस दौरान पूर्व जर्मनी, पोलैंड, इजरायल और उत्तर कोरिया भी रहे.

दिनेश्वर शर्मा आईबी के 25 वें प्रमुख थे. वह जनवरी 2015 से दिसम्बर 2016 तक आईबी के डायरेक्टर रहे. जम्मू कश्मीर के मामलों पर उनके काम और पकड़ ही वो वजह थी जो सरकार ने रिटायरमेंट के बाद दिनेश्वर शर्मा को वहां के वार्ताकार के तौर पर नियुक्त किया. दिनेश्वर शर्मा को 3 नवम्बर 2019 को लक्षद्वीप का प्रशासक नियुक्त किया गया था.

आखिरी सांस तक देश सेवा में रत रहे. असली सिपाही आईपीएस दिनेश्वर शर्मा को रक्षक न्यूज़ टीम की तरफ से श्रद्धांजलि.