इंदौर में कोविड 19 से जंग लड़ते चल बसे योद्धा इंस्पेक्टर देवेन्द्र चन्द्रवंशी

137
इंस्पेक्टर देवेन्द्र चन्द्रवंशी (फाइल फोटो)

वैश्विक महामारी नोवेल कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित मध्य प्रदेश के शहर इंदौर के जुनी थाने के एसएचओ इंस्पेक्टर देवेन्द्र चन्द्रवंशी ने भी इस खतरनाक बीमारी से लड़ते हुए जान दे दी. उन्होंने शनिवार की देर रात इंदौर के अरविंदो अस्पताल में इलाज के दौरान प्राण त्याग दिए. वह 19 दिन से अस्पताल में थे और अब क्यूंकि उनकी हालत में सुधार भी हो रहा था इसलिए उनके निधन की सूचना आने पर हर कोई हैरान था.

तबियत बिगड़ने पर इंस्पेक्टर देवेन्द्र चन्द्रवंशी को इलाज के लिए 30 मार्च को इंदौर के अरविंदो अस्पताल में भर्ती किया गया था. कोविड 19 की जांच की उनकी पहली रिपोर्ट पोजिटिव थी लेकिन उसके बाद की गई दोनों जांच में रिपोर्ट नेगेटिव आई थी. तब एक बार स्वास्थ्य बिगड़ा था पर फिर लगातार सुधार होता गया. अस्पताल का कहना है कि 13 और 15 अप्रैल की कराई गई जांच की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद इंस्पेक्टर देवेन्द्र चन्द्रवंशी को छुट्टी देने पर विचार भी किया जा रहा था.

शनिवार की रात को उनको अचानक सांस लेने में तकलीफ होने लगी और उनकी दिल की धड़कन बहुत तेज़ हो गई जिससे उनकी मृत्यु हुई. अस्पताल के चेयरमैन डॉ विनोद भंडारी के अनुसार जुनी के एसएचओ देवेन्द्र चन्द्रवंशी को इपल्मोनरी एम्बुलिजम हुआ था जो एक तरह का हार्ट अटैक है और ऐसा जो आमतौर पर भी होता है. इंदौर के पुलिस उपमहानिरीक्षक (डीआईजी) हरिनारायण चारी मिश्रा ने इन्स्पेक्टर चन्द्रवंशी के देहावसान को बड़ी क्षति और दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि पूरा पुलिस महकमा दुःख की इस घड़ी में उनके परिवार के साथ है.

परिवार को मदद :

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इन्स्पेक्टर चन्द्रवंशी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि हमने इंदौर की पुलिस टीम का एक कर्तव्यनिष्ठ सदस्य खो दिया जिसने कोरोना से जंग में कर्तव्य की बलिवेदी पर अपने प्राण न्योछावर कर दिए. मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि संकट की इस घड़ी में पूरा प्रदेश उनके शोकाकुल परिवार के साथ है. उन्होंने चन्द्रवंशी परिवार को राज्य सरकार की तरफ से आश्रितों को 50 लाख रूपये की राशि सुरक्षा कवच के तौर पर देने और इन्स्पेक्टर देवेन्द्र चन्द्रवंशी की पत्नी सुषमा चन्द्रवंशी को पुलिस में नौकरी देते हुए सब इंस्पेक्टर के तौर पर तैनात करने का ऐलान किया.

रिटायर्ड पुलिस अफसर मदन मोहन समर ने यूं दी श्रद्धांजलि

मध्य प्रदेश पुलिस के रिटायर्ड अफसर मदन मोहन समर ने देवेंद्र को श्रद्धांजलि देते हुए कहा, थाना प्रभारी जूनी इंदौर अनुज देवेंद्र चन्द्रवँशी कोरोना से युद्ध में शहीद हुए. देश को सुरक्षित रखने की जिद कायम रहेगी खाकी वर्दी में, देवेंद्र यह वचन है हमारा. रिटायरमेंट के बाद श्री समर लेखन और कविता के माध्यम से सोशल मीडिया और अन्य मंचों पर सक्रिय हैं. उन्होंने अपने फेसबुक वाल पर शहीद देवेंद्र के लिए लिखा…

अपनी लाशें बिछा नींव में, ऊपर हिंदुस्तान रखा…
कोरोना से जंग में खाकी की शहादत को प्रणाम।

इंदौर में कोविड 19 :

मध्य प्रदेश के 52 में से 25 ज़िलों में नोवेल कोरोना वायरस के केस सामने आये हैं. इनमें सबसे ज़्यादा प्रभावित इंदौर है और यहाँ कोविड 19 से 48 लोगों की मौत हो चुकी है. शनिवार को ही यहाँ इस संक्रमण के 49 मामले सामने आये.

पंजाब पुलिस के एसीपी अनिल कोहली ने कोविड 19 से लड़ते प्राण त्यागे

कोविड 19 संकट: बदलती पुलिस की यूँ हो रही है बल्ले बल्ले

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here