भारतीय जहाजों पर सऊदी अरब के नौसैनिकों को यू मिलती है खास ट्रेनिंग

79

भारतीय नौसेना प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार ने  कोच्चि स्थित दक्षिणी नौसेना कमान में समुद्री प्रशिक्षण ले रहे सऊदी अरब के कैडेटों से मुलाक़ात की और उनसे उनके अनुभव सुने. इस मौके पर एडमिरल हरि कुमार ने उन मौकों की भी चर्चा जिनसे भारत और सऊदी अरब के रिश्ते मज़बूत हुए है. उन्होंने इस बात पर भी ज़ोर दिया कि दोनों मुल्क समुद्री सुरक्षा के संबंध में समान विचार साझा करते हैं और क्षेत्र में सुरक्षा और सुरक्षित समुद्र सुनिश्चित करने के लिए एक दूसरे के साथ निकटता से काम करते हैं.

भारत में ट्रेनिंग के लिए आए ये 55 कैडेट्स है  जो आए   रॉयल सऊदी नेवल फोर्स (आरएसएनएफ) Royal Saudi Naval Force की  किंग फहद नौसेना अकादमी के छात्र है . इनको  पांच निर्देशक स्टाफ के साथ भारतीय नौसेना के पोत प्रशिक्षण के हिस्से के रूप में प्रथम प्रशिक्षण स्क्वाड्रन जहाजों, आईएनएस तिर और आईएनएस सुजाता से जोड़ा गया है .   दक्षिणी नौसेना कमान में नौसेना प्रमुख  एडमिरल आर हरि कुमार को वर्तमान में जारी बंदरगाह और जलपोत प्रशिक्षण गतिविधियों के बारे में बताया गया . नौसेना प्रमुख को प्रशिक्षण अवधि के दौरान प्रशिक्षुओं द्वारा की गई प्रगति के बारे में भी जानकारी दी गई.

प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के हिस्से  के रूप में, समुद्री प्रशिक्षण चरण में जाने से पहले कैडेटों को  सिम्युलेटर ट्रेनिंग दी गई थी . कैडेट्स  ने भारतीय नौसेना  (indian navy ) के जहाजों पर समुद्र में 10 दिन पूरे कर लिए हैं.  समुद्री उड़ानों के दौरान, उन्हें नेविगेशन और सीमैनशिप के व्यावहारिक पहलुओं पर कठोर प्रशिक्षण से अवगत कराया गया, जिसमें समुद्र में विमान संचालन, लंगर डालना, तटीय नेविगेशन, समुद्र में पुनः आपूर्ति, समुद्री नौकाओं, अग्निशमन और आपातकालीन अभ्यास में नेविगेशन पर जोर दिया गया.  सऊदी अरब के कैडेट्स  के लिए पाल प्रशिक्षण पोत आईएनएस सुदर्शिनी पर दो दिवसीय बंदरगाह प्रशिक्षण की भी योजना बनाई गई है ताकि उन्हें एक पाल जहाज पर भी जिंदगी के मुश्किल से मुश्किल  हालात से रूबरू कराया जा सके . .

कैडेटों ने नौसेना प्रमुख के साथ किसी भी युद्धपोत पर पहली बार नौकायन के अपने प्रशिक्षण अनुभवों को साझा किया. विचार-विमर्श के दौरान  निदेशक स्टाफ ने उच्च गुणवत्ता युक्त प्रशिक्षण और भारतीय नौसेना के पोतों पर प्राप्त अनुभव की सराहना की. एडमिरल हरि कुमार ने  अपने संबोधन में, भारत में आरएसएनएफ प्रतिनिधिमंडल का स्वागत करते हुए कहा  कि भारतीय नौसेना द्वारा सऊदी कैडेटों का प्रथम प्रशिक्षण सऊदी अरब और भारत के साथ-साथ दोनों नौसेनाओं के बीच बढ़ती दोस्ती का सबूत है .

भारत के नौसेना प्रमुख  एडमिरल हरि कुमार ने  में सूडान से भारतीय नागरिकों को निकालने के दौरान सऊदी अरब सरकार से मिली मदद की तारीफ़ की .  दोनों देशों की नौसेनाओं के बीच गहरे रिश्ते  और सहयोग पर ज़ोर  देते हुए, नौसेना प्रमुख ने पुष्टि की कि आरएसएनएफ के साथ संयुक्त अभ्यास, कार्मिकों का आपसी संवाद और प्रशिक्षण आदान-प्रदान पिछले कुछ साल  में बेहतर तरीके से आगे बढ़ा है . उन्होंने कहा कि कि यह दोनों नौसेनाओं के बीच मजबूत संबंध को दर्शाता है.  उन्होंने कहा कि दोनों देश समुद्री सुरक्षा के संबंध में समान विचार साझा करते हैं और क्षेत्र में सुरक्षा और सुरक्षित समुद्र सुनिश्चित करने के लिए एक दूसरे के साथ निकटता से कार्य करते हैं.