जनरल बिपिन रावत को पद्मविभूषण और नीरज चोपड़ा को पद्मश्री सम्मान

68
जनरल बिपिन रावत
जनरल बिपिन रावत को पद्मविभूषण (मरणोपरांत)

भारत के पहले चीफ ऑफ़ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस – CDS ) जनरल बिपिन रावत का नाम उन चार विभूतियों में शामिल है जिन्हें भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर पद्म विभूषण से सम्मानित करने का ऐलान किया है. पद्म पुरस्कारों की श्रृंखला में सबसे ऊँचे स्तर का माना जाने वाला पद्म विभूषण जनरल बिपिन रावत (मरणोपरांत) को नागरिक सेवा केटेगरी में दिया गया है. वहीँ भारतीय सेना के जवान और ओलम्पियन नीरज चोपड़ा के लिए दोगुनी ख़ुशी का दिन है. राष्ट्रपति की तरफ से जारी पद्म सम्मान पाने वालों की फेहरिस्त में उनका नाम है वहीं सेना का भी एक तमगा उनको मिला है.

 

ओलम्पियन नीरज चोपड़ा
भारतीय सेना के जवान और ओलम्पियन नीरज चोपड़ा

राष्ट्रपति ने आज कुल 128 पद्म पुरस्कारों का ऐलान किया जो विभिन्न क्षेत्रों में सेवा के लिए दिए जाते हैं. जेवलिन थ्रो में ओलम्पिक में गोल्ड मेडल लाने वाले एथलीट नीरज चोपड़ा को खेलों के क्षेत्र में योगदान और भारत का नाम रोशन करने पर पद्मश्री दिया जाएगा. नीरज चोपड़ा भारतीय सेना में सूबेदार हैं. सेना ने उनको परम विशिष्ट सेवा मेडल देने का ऐलान किया है. नीरज अभी विदेश में है. वहां प्रैक्टिस के दौरान ट्वीटर के जरिये उन्होंने संदेश भेजा है जिसमें सम्मान और मेडल के लिए सभी का आभार व्यक्त किया है. उन्होंने संदेश में लिखा है – पद्म श्री अवार्ड और परम विशिष्ट सेवा मेडल से सम्मानित किए जाने की खबर सुन के मुझे बेहद खुशी हुई. आप सभी के सपोर्ट और आशीर्वाद के लिए बहुत धन्यवाद. मेरी मेहनत और प्रयास हमेशा ही अपने देश के लिए सर्वश्रेष्ठ परफॉर्मेंस देना ही रहेगा.

उल्लेखनीय है कि चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ जनरल रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत की 8 दिसंबर 2021 को हेलिकॉप्टर क्रेश होने से दुर्घटना में मौत हो गई थी. इस भीषण हादसे में सेना के उस सभी अधिकारियों व जवानों की भी मौत हो गई थी जो इस हेलीकॉप्टर में सवार थे. 16 मार्च 1958 को उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल में जन्मे बिपिन सिंह रावत को 2019 में भारत का पहला सीडीएस नियुक्त किया गया था. उससे पहले जनरल रावत भारतीय सेना के प्रमुख थे. जनरल रावत को परम विशिष्ट सेवा मेडल (PVSM), अति विशिष्ट सेवा मेडल (AVSM) , सेना मेडल (SM) , विशिष्ट सेवा मेडल (VSM) , उत्तम युद्ध सेवा मेडल (UYSM) और युद्ध सेवा मेडल भी मिले थे.

जनरल रावत की मृत्यु के बाद से सीडीएस का ओहदा खाली है. तकरीबन दो महीने होने वाले है, भारत सरकार ने अभी तक सीडीएस के पद के लिए किसी अधिकारी के नाम का ऐलान नहीं किया है.