मिग 21 हादसे में ग्रुप कैप्टन आशीष गुप्ता के प्राण गये, अजीब त्रासदी भी जुड़ी

441
कैप्टन आशीष गुप्ता
ग्वालियर में मिग 21 क्रेश. इनसेट में कैप्टन आशीष गुप्ता की फाइल फोटो.

युद्धक प्रशिक्षण उड़ान के दौरान बुधवार को ग्वालियर में मिग 21 के क्रेश होने के हादसे में भारतीय वायुसेना ने एक शानदार वरिष्ठ पायलट आशीष गुप्ता खो दिया. वहीं ये हादसा एक ऐसी त्रासदपूर्ण घटना भी बन गया जो वायुसेना के इतिहास में हमेशा एक दर्द के साथ याद की जायेगी.

अनुभवी फाइटर पायलट ग्रुप कैप्टन आशीष गुप्ता के मिग 21 बायसन युद्धक विमान ने बुधवार की सुबह ग्वालियर के महाराजपुरा वायु सैनिक अड्डे से उड़ान भरी थी लेकिन उड़ान भरने के कुछ ही देर में उनका मिग क्रेश होकर गिर गया. हादसे में ग्रुप कैप्टन आशीष गुप्ता भी बुरी तरह आग की चपेट में आ गये. कुछ सूत्रों का कहना है कि उन्होंने खुद को इजेक्ट कर लिया था लेकिन इस तथ्य की पुष्टि नहीं हो पाई. कहा ये भी जा रहा है कि विमान में ईंधन भरने के दौरान आई तकनीकी खामी हादसे की वजह हो सकती है. वैसे हादसे के कारणों का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ़ इन्क्वायरी के आदेश दिए गये हैं.

कैप्टन आशीष गुप्ता
मिग 21 बायसन युद्धक विमान

ये कैसी विडम्बना :

इसे अजीबो गरीब त्रासदी ही कहा जायेगा कि पूर्व में टैक्टिक्स एंड एयर कॉम्बैट डेवेलपमेंट इस्टेब्लिशमेंट (Tactics and Air Combat Development Establishment – TCDE) में तैनात रहे अनुभवी ग्रुप कैप्टन आशीष गुप्ता को राजस्थान के सूरतगढ़ में अग्रिम मोर्चे वाली जिस स्क्वाड्रन की जनवरी में कमान सम्भालनी थी उसमें देरी हो गई थी. वहां के कमान अधिकारी ग्रुप कैप्टन नितिन नयाल से उनको कमान लेनी थी लेकिन ग्रुप कैप्टन नयाल भी ऐसे ही हादसे का शिकार हुए थे. सौभाग्य से वह खुद को विमान से इजेक्ट करने में कामयाब रहे थे.

उड़ते ताबूत के तौर पर बदनाम मिग 21 फाइटर की स्क्वाड्रन की कमान सँभालने के लिए आने वाले और कमान सौंपने के लिए तैयार कमांडिंग अधिकारियों का कुछ समय के अंतराल में हादसे का शिकार होना उन मिग के हादसों में तकलीफ के साथ याद किया जाया करेगा जो जिन मिग लड़ाकुओं को अलविदा कहने की तैयारी चल रही है.

ग्रुप कैप्टन आशीष गुप्ता :

मिग उड़ाने के अनुभवी ग्रुप कैप्टन आशीष गुप्ता राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के 99 वें कोर्स से थे. उनके शोक संतप्त परिवार में पत्नी और दो बच्चे हैं. उन बच्चों की उम्र 5 और 11 साल है.