पूर्व नौसैनिक फाइटर पायलट ऐसे बन गई आसमान में देवी

414
टैमी जो शल्ट्स
अपने साथियों के लिए देवदूत बन गई टैमी जो शल्ट्स

‘नहीं , इसमें आग नहीं लगी है …..लेकिन इसका एक हिस्सा गायब हो गया है …’
(it’s not on fire…but part of it is missing)

एयर ट्रैफिक कंट्रोल को ये जवाब उस पायलट ने दिया जिसके विमान ने कुछ ही देर पहले न्यूयार्क से उड़ान भरी थी और जो जमीन से 30 हज़ार फुट से भी ज्यादा ऊंचाई पर था.

इससे पहले पायलट ने सूचना दी थी कि हवाई जहाज़ में धमाका हुआ है. धमाके के बाद जहाज़ की एक खिड़की टूट गई थी और उस हिस्से से एक महिला यात्री बाहर की तरफ निकल गई थी. किसी तरह से उसे साथी यात्रियों ने विमान के भीतर वापस खींच लिया. लेकिन इस बीच विमान का इंजन फेल हो गया. इन हालात में भी उस विमान की पायलट टैमी जो शल्ट्स (Tammie Jo Shults) ने गजब की सूझबूझ और शांत मानसिक संतुलन का परिचय दिया. सब जानते थे कि इसे वह 56 वर्षीय टैमी जो शल्ट्स उड़ा रही हैं जो कि अमेरिका में लड़ाकू विमान उड़ाने वाली पहली महिला पायलट है.

फिलाडेल्फिया हवाई अड्डे पर इमरजेंसी लैंडिंग के दौरान भी पायलट जो की तरफ से आये संदेश ने सबको हैरान कर डाला,’ क्या आप डाक्टरी सहायता का बन्दोबस्त भी करेंगे क्यूंकि हमारे साथ कुछ यात्री हैं जो घायल हैं ’.

हैरान करने वाली बात तो ये है कि पायलट ने उस वक्त गजब का धैर्य बनाकर रखा था जब विमान धमाके के बाद एक भारी भरकम चट्टान की तरह आसमान से गिर रहा था. पांच मिनट में 30 हजार 684 फुट से 10 हजार तक की ऊंचाई तक नीचे पहुँचने में इसे पांच मिनट लगे और पायलट के उड़ान कौशल ने मानो मील का पत्थर तय करने की ठान रखी हो. वो इस दौरान लगातार एयर ट्रैफिक कंट्रोल से सम्पर्क में रहीं. और बारीक से बारीक संदेश भी देती रही बिना किसी घबराहट के.

टैमी जो शल्ट्स
विमान की इमरजेंसी लैंडिंग के तुरंत बाद विमान में टैमी जो शल्ट्स

ये सच में खौफनाक हालात थे. बावजूद इसके 144 यात्रियों और 5 क्रू मेम्बर्स के साथ साउथ वेस्ट एयरलाइन की फ्लाईट 1380 लैंड कर गई. ऐसा हो पाना मुमकिन नहीं था लेकिन जिस पायलट ने ये कारनामा कर दिखाया, उससे ही ऐसी उम्मीद की जाती भी है. उसकी शख्सियत है ही ऐसी. विमानन के क्षेत्र में काम करने वाले अनुभवी विशेषज्ञ भी टैमी जो शल्ट्स (Tammie Jo Shults) की काबलियत की जम के तारीफ़ कर रहे हैं.

ये थी घटना :

साउथ वेस्ट एयर लाइन की फ्लाइट संख्या 1380 ने मंगलवार की सुबह 10 बज कर 27 मिनट पर न्यूयार्क के ला गार्डिया हवाई अड्डे से उड़ान भरी थी जिसे डलास में उतरना था. चालक दल के सदस्यों समेत कुल 149 लोग इसमें सवार थे. 31600 फुट की ऊंचाई पर जैसे ही विमान पहुंचा तभी एक धमाके के साथ एक हिस्सा टूट गया और विमान में सुराख हो गया. विमान ने 11 बजकर 23 मिनट पर फिलाडेल्फिया इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर आपात लैंडिंग की.

सलाम की हकदार :

विमान में सवार यात्रियों और अपने साथियों के लिए देवदूत बन गई टैमी जो शल्ट्स की पूरा अमेरिका वाह वाह कर रहा है. कोई उन्हें अमेरिका की असली हीरो (Real Hero America) लौह धमनी (Nerves of Steel) और आसमान पर देवी (Angels on the Sky) कह रहा है.

कौन है ये पायलट :

F / A-18 Hornet
टैमी जो शल्ट्स ने नौसेना में 10 साल काम किया. वो पहली इंस्ट्रक्टर पायलट थीं (महिला) जिसने F/A-18 Hornet जैसे फाइटर प्लेन उडाये

टैमी जो शल्ट्स अमेरिका की नौसेना में 1985 में भर्ती हुयी थीं. अमेरिकी नौसेना की प्रवक्ता लेफ्टिनेंट क्रिस्टीना एच सिअर्स के मुताबिक़ टैमी जो ने नौसेना में 10 साल काम किया. वो पहली इंस्ट्रक्टर पायलट थीं (महिला) जिसने F/A-18 Hornet और EA-6B Prowler जैसे फाइटर प्लेन उडाये. प्रालर ऐसा युद्धक विमान है जो राडार को जाम कर देता है और रेडियो संदेश की खुफिया जानकारियाँ इकट्ठा करने की क्षमता रखता है.

टैमी जो शल्ट्स
लिंडा मेलोनेय की लिखी किताब ‘मिलिट्री फ्लाई मॉम्स’ से विमान के साथ टैमी जो शल्ट्स की यह फोटो ली गई है. Photo Courtsy/Linda Maloney

लेफ्टिनेंट कमांडर के ओहदे से अमेरिकी नौसेना से रिटायर होने से पहले उन्होंने 2 नेवी कोर उपलब्धि पदक ( Navy Corps Achievement Medal ) हासिल किये थे. उन्हें राष्ट्रीय रक्षा सेवा पदक (National Defense Service Medal) से भी सम्मानित किया गया था. लेकिन इन उपलब्धियों की बात तो दूर की बात है, टैमी जो शल्ट्स के लिए तो सेना में पायलट के तौर पर भर्ती होना भी बेहद चुनौती भरा था. उनके इस संघर्ष के बारे में लिंडा मेलोनेय की लिखी किताब ‘मिलिट्री फ्लाई मॉम्स’ में ज़िक्र किया गया है जिसमें उन्होंने कहा था कि स्त्री होने के नाते उन्हें भेदभावपूर्ण रवैये का सामना करना पड़ा. Linda Maloney