यूपी में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू : आलोक सिंह नोएडा, सुजीत पांडे लखनऊ के पहले कमिश्नर

115
आईपीएस अधिकारी आलोक सिंह (बाएं) नोएडा के और सुजीत पांडे लखनऊ के पहले कमिश्नर.

भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में पहली बार पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू कर दिया गया है. फिलहाल इसे दो जिलों में लागू किया गया है. एक तो प्रदेश की राजधानी लखनऊ और दूसरा देश की राजधानी दिल्ली से सटा जिला गौतम बुद्ध नगर (नोएडा). मेरठ ज़ोन के अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) आलोक सिंह को गौतम बुद्ध नगर का और प्रयागराज जोन के अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) सुजीत पाण्डेय को लखनऊ का पुलिस कमिश्नर बनाया गया है. ये दोनों वे अधिकारी हैं जिन्होंने पहले से ही इन क्षेत्रों में काम किया हुआ है और बतौर पुलिस अफसर यहाँ के हालात से बखूबी वाकिफ हैं. साथ ही साथ सरकार ने इन दोनों जिलों को मेट्रोपोलिटन सिटी भी घोषित किया है.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में मंत्रिपरिषद की बैठक में पहली बार लखनऊ और नोएडा (गौतम बुद्धनगर) में पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू करने के साथ ही दोनों जिलों को मेट्रोपोलिटन सिटी भी घोषित करने की अधिसूचनाएं भी सोमवार की देर रात जारी कर दी गईं. उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि अधिसूचनाएं होने के साथ ही जिला मजिस्ट्रेट के 15 प्रशासनिक अधिकार भी पुलिस आयुक्त को दिए गए हैं. अब पुलिस आयुक्त तय करेंगे कि किन अधिकारों को किस स्तर के अधिकारियों को दिया जाए.

मेरठ जोन के एडीजी रहे आईपीएस अधिकारी आलोक सिंह पहले मेरठ जोन के महानिरीक्षक (IG) और जोन के कई जिलों में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (SSP) भी रह चुके हैं. वहीं लखनऊ के पहले पुलिस कमिश्नर बनाये गये एडीजी सुजीत पांडेय भी लखनऊ में पुलिस महानिरीक्षक (IG) और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (SSP) की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं.

ये होगा बदलाव :

गौतमबुद्धनगर में पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू होते ही यहाँ और दो थाने खुलने का रास्ता बन गया है. इनमें से एक थाना नोएडा में और दूसरा ग्रेटर नोएडा में होगा. नोएडा में बनने वाले नए थाने का नाम फेज-1 और ग्रेटर नोएडा में बनने वाले नए थाने का नाम सेक्टर-142 होगा. इसके लिए पहले ही शासन स्तर से मंजूरी मिल चुकी है. इसके अलावा जिले में पांच नए थाने सेक्टर-48, सेक्टर-63, सेक्टर-106, सेक्टर-115 व ओखला बैराज बनाये जाने का भी प्रस्ताव है.

गौतमबुद्धनगर जिले में वर्तमान में महिला थाने समेत कुल 22 थाने हैं. इसमें से थाना सेक्टर-20, 24, 39, 49, 58, फेज-दो, फेज-तीन, एक्सप्रेस-वे व महिला थाना नोएडा में हैं. इनके अलावा थाना सूरजपुर, कासना, नॉलेज पार्क, ईकोटेक प्रथम, दनकौर, ग्रेटर नोएडा, बिसरख, ईकोटेक तृतीय, बादलपुर, रबूपुरा, जारचा, जेवर व दादरी थाना ग्रेटर नोएडा क्षेत्र में है. ये सारे थाने अब गौतमबुद्धनगर पुलिस कमिश्नर के अधिकार क्षेत्र में आएंगे.

कमिश्नर सिस्टम में रैंक :

पुलिस आयुक्त प्रणाली में पुलिस कमिश्नर (सीपी-CP) अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी-ADG) रैंक के अधिकारी को बनाया जाता है और इनके नीचे पुलिस महानिरीक्षक (आईजी-IG) रैंक के अधिकारी होते हैं, जिन्हें आयुक्त प्रणाली में ज्वाइंट कमिश्नर (Joint CP) कहा जाता है. इसके बाद पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआइजी- DIG) होते हैं, जिन्हें अतिरिक्त आयुक्त (एडिशनल कमिश्नर ऑफ पुलिस-Additional CP) कहा जाता है. इनके नीचे वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक या पुलिस अधीक्षक (SSP/SP) रैंक के अधिकारी होते हैं, जिन्हें पुलिस उपायुक्त (डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस-DCP) कहा जाता है. डीसीपी यानि एक शहर, इलाके या किसी यूनिट के प्रभारी होते हैं. डीसीपी के नीचे उपाधीक्षक (डीएसपी /एएसपी-DSP/ASP होते हैं, जिन्हें सहायक आयुक्त (असिस्टेंट कमिश्नर ऑफ पुलिस-ACP) कहा जाता है. सभी थाने और पुलिस चौकियां सीधे तौर पर डीसीपी के अधिकार क्षेत्र में होती हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here