मिलिटरी लिटरेचर फेस्टिवल हरेक साल होगा और इसके लिए अलग कोष बनेगा

503
मिलिटरी लिटरेचर फेस्टिवल
पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल रविवार को मिलिटरी लिटरेचर फेस्टिवल के समापन पर प्रथम विश्व युद्ध के शहीदों के परिजनों को सम्मानित किया.

भारत के पंजाब राज्य के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने सेना को समर्पित मिलिटरी लिटरेचर फेस्टिवल के दूसरे संस्करण के समापन पर ऐलान किया कि इस फेस्टिवल को जारी रखने के लिए विशेष कॉर्पस फंड बनाया जाएगा ताकि इस सालाना आयोजन का सिलसिला जारी रहे और इसके लिये आर्थिक मदद भी मिले. चंडीगढ़ में सुखना झील के किनारे तीन दिन तक पूरी तरह उत्सव वाले माहौल में लगातार चले इस आयोजन में सेना और समाज के विभिन्न पक्षों की हिस्सेदारी में इज़ाफा आयोजकों के लिए सकून वाला रहा.

वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने अपने भाषण में सेना और सैनिक कल्याण से जुड़े मुद्दों को भी छुआ. श्री बादल ने कहा कि राज्यसभा में पूर्व सैनिकों की नुमायन्दगी होनी चाहिये और इसे सुनिश्चित करने के लिए संविधानिक में संशोधन की ज़रूरत पर भी ज़ोर दिया. वित्त मंत्री बादल का मानना है कि ब्लॉक समिति, जिला परिषद, पंचायत और अन्य संस्थाओं में भी पूर्व सैनिकों का प्रतिनिधित्व होना चाहिए और उन्होंने पंजाब में इसे लागू करवाने का भरोसा दिया.

वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने सेवारत और सेवामुक्त हो चुके फौजियों का सम्मान करते हुए अपने नेशनल मैनीफैस्टो, पंजाब कांग्रेस के मैंबर के तौर पर तजुर्बे को साझा करते हुए बताया कि जब उनको सैनिकों की भलाई सम्बन्धी सुझाव देने के लिए कहा गया तो उन्होंने कहा कि वह वेलफेयर ऑफ डिफेंस पर्सनल और एक्स सर्विसमैन का अलग अध्याय रचने में विशेष रुचि रखते हैं.

मनप्रीत बादल ने कहा कि उन्होंने देश के अलग अलग हिस्सों में जाकर पूर्व सैनिकों के साथ विस्तृत विचार-विमर्श किया है और वे इस बात से संतुष्ट दिखाई दिये कि राष्ट्र के जवानों ने आर्थिक लाभ की जगह आत्मसम्मान (इज्जत) को चुना है. वित्त मंत्री ने कहा कि राष्ट्र के इन महान सपूतों को उनका अपेक्षित मान -सम्मान और इज्जत देने की ज़रूरत है क्यूँकि सारा समाज इनका कर्जदार है. श्री बादल ने अमेरिकियों की मिसाल देते हुए कहा उन लोगों ने अपने बहादुर सैनिकों और पूर्व फौजियों को राष्ट्रीय छवि के तौर पर स्थापित किया है. उन्होंने कहा कि भारतवासियों को भी यही भावना अपनाने की ज़रूरत है.

वित्त मंत्री बादल ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की तरफ से मिलिटरी लिटरेचर फेस्टिवल सम्बन्धी निर्धारित शेड्यूल के अनुसार पहुँचने में असमर्थ रहने पर माफी माँगी और कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा इस सम्बन्ध में पहले ही तैयारियाँ कर ली गई थीं परन्तु स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं के कारण वह इस महत्वपूर्ण समागम में हाजिऱ नहीं हो सके.

1 COMMENT

Comments are closed.