किश्तवाड़ में वायु सेना के हेलीकाप्टर खराब मौसम के बावजूद मदद में जुटे

85
भारतीय वायु सेना
किश्तवाड़ हादसे में प्रभावित लोगों को पहुंचाने में जुटी भारतीय वायु सेना

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने से हुए भीषण हादसे में प्रभावित लोगों को हर तरह की मदद पहुंचाने के लिए भारतीय वायु सेना के जवान और हेलीकॉप्टर लगातार जुटे हैं. हादसे की भीषणता और स्थानीय लोगों को मदद की ज़रूरत को देखते हुए खराब मौसम के बावजूद भारतीय वायु सेना ने अगले दिन से ही राहत और पुनर्वास ऑपरेशन शुरू कर दिया था.

भारतीय वायु सेना
किश्तवाड़ हादसे में प्रभावित लोगों को पहुंचाने में जुटी भारतीय वायु सेना

29 जुलाई को भारतीय वायु सेना के जम्मू, उधमपुर और श्रीनगर से एक एक हेलिकॉप्टर ने उड़ान भरी. ये हेलीकाप्टर अपने साथ राज्य आपदा राहत बल (SDRF) और राष्ट्रीय आपदा राहत और बचाव बल (NDRF) के दल के 44 सदस्यों को तो साथ लेकर गये ही 2250 किलोग्राम राहत सामग्री भी हेलिकॉप्टरों ने पहुंचाई. इसके आलावा किश्तवाड़ गये ये हेलीकाप्टर अपने साथ 4 चिकित्सा सहायकों को भी लेकर गये जो सोनदार से स्ट्रेचर पर दो उन घायलों को भी अस्पताल में उपचार के लिए एयरलिफ्ट करके लाये जिनकी हालत नाज़ुक थी. बृहस्पतिवार की रात तक भारतीय वायु सेना के हेलिकॉप्टरों ने 8 उड़ानें भरी थीं.

भारतीय वायु सेना
किश्तवाड़ हादसे में प्रभावित लोगों को पहुंचाने में जुटी भारतीय वायु सेना

असल में किश्तवाड़ में बादल फटने के इस हादसे के बाद से तकरीबन 20 लोग होनजार से लापता हैं. ये इलाका सड़क मार्ग से कटा हुआ है और यहाँ पर मोबाइल फोन की भी कनेक्टिविटी नहीं है. नज़दीकी सड़क से गाँव तक पहुँचने के लिए ट्रेकिंग करनी पड़ती है और इसमें पांच घंटे तक लग जाते हैं. खराब मौसम इस हालत को और खतरनाक बना देता है. वैसे मौसम के हालात को देखते हुए भारतीय वायु सेना ने आपात स्थिति में मदद के लिए ऐसी ही और तैयारी करके रखी हुई है.