छत्तीसगढ़ में आईईडी धमाके, बीएसएफ के अखिलेश और सीएएफ के कमलेश की जान गई

45
बीएसएफ के जवान अखिलेश राय

छत्तीसगढ़ में एक इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस ( improvised explosive device आईईडी)  से विस्फोट के जरिए किये गए नक्सलियों  के हमले  में  गुरुवार को सीमा सुरक्षा बल (border security force – बीएसएफ ) के जवान अखिलेश राय की जान चली गई . अखिलेश की उम्र 45 साल थी और वह उत्तर प्रदेश के गाजीपुर का रहने वाला था. इससे एक दिन पहले  छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल  (caf सीएएफ) के सिपाही  कमलेश कुमार की मौत हो गई और एक अन्य सिपाही विनय कुमार   को मामूली चोटें आईं थीं.

पुलिस ने बताया कि  अखिलेश राय  बीएसएफ में हवलदार ( head constable) थे और रोड ओपनिंग पार्टी (आरओपी) ऑपरेशन गई टीम में थे.

अधिकारियों के अनुसार, विस्फोट कांकेर ज़िले के  परतापुर  थाने के क्षेत्र में एक मंदिर से तकरीबन  5 किलोमीटर दूर सदाकटोला गांव में हुआ. उस समय  जिला पुलिस और बीएसएफ की एक संयुक्त टीम आरओपी ऑपरेशन पर थी. तभी अखिलेश राय का पैर  , वहां छिपाई हुई (आई ई डी ) पर पड़ गया.

किसी भी निर्माण कार्य या सुरक्षा बलों या वीआईपी की आवाजाही से पहले उस दिशा की सड़क को सुरक्षित करने के लिए आरओपी का संचालन किया जाता है.  एक अधिकारी ने बताया कि बुरी तरह घायल हुए अखिलेश राय को अस्पताल ले जाया गया, लेकिन चोटों के कारण उन्होंने दम तोड़ दिया. इस घटना के बाद स्थानीय पुलिस, डिस्ट्रिक्ट रिजर्व गार्ड (डीआरजी) और बीएसएफ इलाके में तलाशी कर रहे हैं.

दो दिनों में यह ऐसी  दूसरी घटना है जब आईईडी विस्फोट में कोई सुरक्षाकर्मी मारा गया है. बुधवार को बस्तर  के नारायणपुर  में  डोंगरे थाना क्षेत्र की है . यहां आमदई पहाड़ियों में एक लौह अयस्क खदान के पास आईईडी विस्फोट में माओवादियों ने एक और जवान की हत्या कर दी थी . इस धमाके  में छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल (सीएएफ) के सिपाही कमलेश कुमार साहू  की मौत हो गई और एक अन्य कांस्टेबल को मामूली चोटें आईं थीं.

कमलेश साहू और एक और जवान बालोद निवासी विनय कुमार सर्चिंग के दौरान फ्रंट में थे. इस खोजी अभियान  के दौरान जवान कमलेश साहू का पैर नक्सलियों के लगाए प्रेशर आईईडी पर पड़ गया. इससे  धमाका हो गया और बुरी तरह घायल कमलेश ने  मौके पर प्राण त्याग दिए.  कमलेश साहू सक्ती जिले के हसौद के रहने वाले थे.विस्फोट के बाद, नक्सलियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी, जिन्होंने जवाबी कार्रवाई में उन पर गोलीबारी की.

सीएएफ  के सिपाही  कमलेश कुमार साहू 

कमलेश साहू को बचपन से ही सेना में जाने का शौक था. जिसकी तैयारी वह 2010 से कर रहे थे. 2018 सीएएफ में  भर्ती निकली जिसमें उन्होंने आवेदन किया था .  वर्तमान में जवान कमलेश साहू सीएएफ 9 वीं वाहिनी में  थे और उनकी पोस्टिंग नारायणपुर में थी.